Sunday, June 16, 2024
No menu items!
HomeShayariBest Unlimited Love Shayaris in Hindi

Best Unlimited Love Shayaris in Hindi

दोस्तों प्यार इस दुनिया मे भगवान द्वारा बनाई गयी सबसे खूबसूरत चीज़ है। प्यार का रिश्ता हर रिश्ते से बढ़कर होता है। यह सिर्फ़ एक एहसास और महसूस किया जाने वाला रिश्ता है। जब किसी को किसी से प्यार होता है तो वो दुनिया के सभी बंधनो से ऊपर उठकर उस इंसान के लिए कुछ भी करने को तैयार रहता है। ये जरूरी नहीं है कि हम जिसे प्यार करते है वो हमेशा हमारे साथ ही रहे या फिर वो भी हमे बदले में प्यार ही दे। प्यार तो क़ुदरत का दिया हुआ एक अनमोल तोहफ़ा है जिसे पाने वाला व्यक्ति इसे महसूस करते हुए इसे दुनिया की सबसे बड़ी अमानत समझता है। 

न जाने उनसे हमें इतनी… शिद्दत से क्यों हो गयी,

ज़िन्दगी से भी ज्यादा उनसे हमें… चाहत क्यों हो गयी.

जिनका मिलना ही नहीं था मुक़द्दर में मेरे,

बेपनाह उनसे ही हमें… मोहब्बत क्यों हो गयी.

दर्द में, चैन में, मेरे बस तुम्ही हो,दिन में रैन में मेरे बस तुम्ही हो.जिधर देखता हुँ, उधर बस तुम्ही हो.मंज़िल में, राह में, मेरे बस तुम्ही हो.भूख है, प्यास है, लेकिन आस है जिसकी मुझे,वो एक बस तुम्ही हो…जिसके लिए प्यार के दिए मैंने जलाये हैं,

मेरे लिए उस रौशनी का सबब बस तुम्ही हो…

सोचता हूँ अंदर जितने राज़ है

उनसे सारे परदे उठा दूँ .कहनी उनसे जो बात हैसब कुछ उन्हें बता दूँ .अगर इज़ाज़त इ इजहार मिल जाये हमें तो,छुपाये दिल में जो ज़ज़्बात है,खोल कर उन्हें दिखा दूँ .

न कोई राह मुश्किल है,न कोई दूर मंज़िल है.तय हो जायेगा आसानी से ये सफर,

जो तेरा साथ हासिल है. 

तेरा साथ मिल जाये तो हर ख़ुशी हासिल हो जाये,

तेरा हाथ थामे सफर-ए -ज़िन्दगी कामिल हो जाये.तन्हा ही चला आ रहा हुँ बड़ी दूर से मैं,तू अगर हमसफ़र हो तो आसान मंज़िल हो जाये.

न जाने मुझे तुमसे इतनी, मोहब्बत सी क्यों हो गयी,न जाने इस दर्द-ए-दिल से इतनी, चाहत सी क्यों हो गयी,जबकि मालूम है मुझे के तुम मेरे नहीं…

न जाने फिर भी मुझे तुम्हारी, इतनी आदत सी क्यों हो गयी. 

दिल की बात कह देना, इतना भी आसान नहीं है.

शायद वो हमारे हालात से, इतने अनजान भी नहीं हैं.

एक तरफ़ा ही सही मोहब्बत तो है हमें,

उनसे इकरार  इश्क़ के मोहताज़ भी नहीं हैं 

वो हैं जो हमसे नज़रें फेर के बैठे हैं,न जाने क्यों वो ऐसे इतनी देर से बैठे हैं.काश वो देख पाते मेरी बेताबी को,

के हम उनके दीदार को कितने शामो सेहर से बैठे हैं… 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -
Google search engine

Most Popular

Recent Comments